उत्थान

करने को बहुत कुछ है...

24 Posts

26 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 1751 postid : 765486

कोई नाम ना दो...

Posted On: 22 Jul, 2014 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

.
मैंने देखी हैं तुम्हारी चमकती आँखें,
.
तुम कभी कह ना पाओगी, ये जानता हूँ मैं;
रिश्ता कोई इसे बाँध न पायेगा, ये भी मानता हूँ मैं.
.
इस अनुभूति को नाम देना कितना कठिन है,
बिना कहे, बिना सुने भी तो ये मुमकिन है.
.
काँपते होठों से शायद ना कह पाऊँ तुझे,
पर तुम मेरी हो ये विश्वास है मुझे.
.
-पंकज जौहरी.



Tags:                 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran